वीथी

हमारी भावनाएँ शब्दों में ढल कविता का रूप ले लेती हैं।अपनी कविताओं के माध्यम से मैंने अपनी भावनाओं, अपने अहसासों और अपनी विचार-धारा को अभिव्यक्ति दी है| वीथी में आपका स्वागत है |

Thursday, 3 October 2013

श्रद्धांजलि - कहीं तो दिख



टिमटिमाते असंख्य तारों बीच
ढूँढ रही हूँ धुंधला-सा एक तारा
जो छिप रहा होगा सबसे पीछे
ज़रूर माँ होगी वो
कहाँ छोड़ी होगी आदत
गूदड़े-से पैरहन में
लुकती-छिपती
भीड़ से दूर
तड़क-भड़क कभी नहीं सुहाई उसे
सुहाग के नाम पर बस लाख़ का चूड़ा
न जाने क्यों चिड़ती थी माँ
सिंगार के नाम पर बनावट से
बनावट किसी भी चीज़ में कब भायी उसे
रूचता रहा जो भी था
सादा, खालिस, शुद्ध ।

सितारों की चमक में
क्या चैन से रह पाती हो माँ
या खोजती हो बदली की ओट
या फिर सप्‍तऋषि के परकोटे में
पा लिए हैं अपने ठाकुर, बालाजी
क्या कुछ पखेरू भी हैं वहाँ
जो चुन लें दाना तेरे हाथों से
और तृप्‍ति से आरम्भ हो दिन तेरा
क्या तेरी आँखें अब भी 
देखती हैं
काले कुत्ते की राह
कि एक रोटी वह भी खा जाए
या तेरे दान-धर्म ने
व्रत-उपवास ने
ठाकुर, बालाजी ने
कर दिया है तुझे मुक्त
जन्म-मृत्यु के बंधन से

कह न माँ
कभी तो दिख मुझे
मेरी डबडबाई आँखें
क्यों नहीं दिखतीं तुझे
बहुत नरम दिल था न तेरा
सपने में ही दिख माँ
कहीं तो दिख
कभी तो दिख....

7 comments:

  1. एक लाज़वाब निशब्द करती कविता जिसे पढ़कर प्रतिक्रिया में बस दो चीज़ें निकलती हैं पहला आंसू और दूसरा मौन ...नमन इन भावों को ..नमन आपके ह्रदय को और बधाई आपकी कलम को !!!

    ReplyDelete
  2. प्रिय निशा ! सच पूछो तो मैंने लिखी ही नहीं यह कविता । श्राद्ध का दिन.......आँखों से नीर बहा और दिल से ये भाव और शब्द !
    तुम्हारी भावना ने मेरे भाव तृप्त कर दिए
    शुक्रिया भावना का मोल कहाँ चुका सकता है !

    ReplyDelete
  3. अतीव सुंदर भावपूर्ण ह्रदयस्पर्शी कविता .. आपने मानस पटल के कैनवास पर शब्दों की कूची से रंगों के सुंदर चित्र का वर्णन कर दिया है .. अतुलनीय वर्णन किया है आपने .. आपकी कविता में भावभूमि की अनुपम छटा दिखती है .. इस कविता में तो यह सर्वोच्च कोटि की दिग्दर्शित हुई है .. बधाई ..

    ReplyDelete
  4. नमस्कार आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (06-10-2013) के चर्चामंच - 1390 पर लिंक की गई है कृपया पधारें. सूचनार्थ

    ReplyDelete
  5. जैसे माँ सब्द ही अपने आप में निर्मल होता ही प्यार से परिपूर्ण वैसे ही आपकी ये रचना .. भावपूर्ण सुन्दर .. निशब्द हूँ नमन

    ReplyDelete
  6. बहुत भावपूर्ण अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  7. प्रिय ब्लागर
    आपको जानकर अति हर्ष होगा कि एक नये ब्लाग संकलक / रीडर का शुभारंभ किया गया है और उसमें आपका ब्लाग भी शामिल किया गया है । कृपया एक बार जांच लें कि आपका ब्लाग सही श्रेणी में है अथवा नही और यदि आपके एक से ज्यादा ब्लाग हैं तो अन्य ब्लाग्स के बारे में वेबसाइट पर जाकर सूचना दे सकते हैं

    welcome to Hindi blog reader

    ReplyDelete